20-chandragrahan.jpg

Chandra Grahan 2021: 26 मई को दिखेगा 'सुपर ब्लड मून', जानिए क्या पड़ेगा आप पर असर

RewaRiyasat.Com
Suyash Dubey
24 May 2021

Chandra Grahan 2021 : भारत के पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय (Ministry of Earth Sciences India) ने जानकारी दी है की  26 मई 2021 (5 ज्येष्ठ, शक संवत 1943) को पूर्ण चंद्र ग्रहण घटित होगा।

यहाँ देखगा चंद्र ग्रहण 

भारत में चंद्रोदय के तत्काल बाद ग्रहण की आंशिक प्रावस्था का अंत अल्प अवधि के लिए भारत के उत्तर पूर्वी हिस्सों (सिक्किम को छोड़कर), पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों, ओड़िशा के कुछ तटीय भागों तथा अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह से दिखाई देगा ।

 

यह ग्रहण दक्षिण अमरीका, उत्तर अमरीका, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अंटार्टिका, प्रशांत महासागर तथा हिंद महासागर के क्षेत्रों में दिखाई देगा ।

चंद्र ग्रहण का समय 

ग्रहण की आंशिक प्रावस्था का प्रारम्भ 26 मई को दोपहर 2.17 बजे से आरंभ होगा और शाम 7.19 बजे तक रहेगा।

मिली जानकारी के मुताबिक 19 नवम्बर 2021 को घटित होने वाला अगला चंद्र ग्रहण भारत में दृश्य होगा । यह एक आंशिक चंद्र ग्रहण होगा जिसकी आंशिक प्रावस्था का अंत चंद्रोदय के तत्काल उपरांत अल्प अवधि के लिए अरुणांचल प्रदेश और असम के सुदूर उत्तर पूर्वी हिस्सों से दृश्य होगा ।

क्या होगा आप पर असर 

पं. मोहनलाल द्विवेदी ने जानकारी दे की 26 को घटित होने वाला चंद्र-ग्रहण वैश्विक-स्तर पर पूर्ण चंद्र-ग्रहण होगा, लेकिन भारत के आसाम, अरुणांचल, मेघालय, त्रिपुरा, मणिपुर, मिज़ोराम और  नागालैंड आदि पूर्वोत्तर राज्यों ग्रस्तोदय (छायाग्रहण) रूप में बहुत कम समय के लिए दिखाई देगा अर्थात उपरोक्त स्थानों में चन्द्रमा ग्रस्त ही उदित होगा और उदय के कुछ ही मिनटों के बाद ग्रहण समाप्त हो जायेगा।  

पं. मोहनलाल द्विवेदी  ने बताया की उत्तर और पश्चिम भारत के राज्यों- जम्मू कश्मीर, हिमाचल, उत्तराखंड, हरियाणा, दिल्ली, उत्तरप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, मध्य-प्रदेश और महाराष्ट्र में चंद्र-ग्रहण दृश्य न होने के कारण ग्रहण का सूतक, स्नान, दान, मंत्र-पुरश्चरण विचारणीय नहीं है। उन्होंने कहा  कि बुधवार को पड़ने वाले ग्रहण के संदर्भ में किसी भी प्रकार के भ्रम में न उलझे।   

कैसे होता है चंद्र ग्रहण ?

चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan) पूर्णिमा को घटित होता है जब पृथ्वी सूर्य एवं चंद्रमा के बीच आ जाती है तथा ये तीनों एक सीधी रेखा में अवस्थित रहते हैं ।

पूर्ण चंद्र ग्रहण तब घटित होता है जब पूरा चंद्रमा पृथ्वी की प्रच्छाया से आवृत हो जाता है तथा आंशिक चंद्र ग्रहण तब घटित होता है जब चंद्रमा का एक हिस्सा ही पृथ्वी की प्रच्छाया से ढक पाता है ।

Comments

Be the first to comment

Add Comment
Full Name
Email
Textarea
SIGN UP FOR A NEWSLETTER