2021/06/84-rewa-green-corridor-for-corona-infected-singrauli-adj.jpg

रीवा में पहली बार बना Green Corridor / SGMH में भर्ती जज को एयरलिफ्ट कराने चोरहटा हवाई पट्टी तक बनाया गया

RewaRiyasat.Com
रीवा रियासत डिजिटल
11 Jun 2021

रीवा में पहली बार ग्रीन कॉरिडोर (Green Corridor) बनाया गया है. SGMH में डेढ़ माह से इलाजरत सिंगरौली के एक जज को दिल्ली भेजने के लिए अस्पताल से लेकर चोरहटा हवाई पट्टी तक ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया. जज को एयरलिफ्ट कराकर दिल्ली भेजा गया. इसमें अस्पताल, जिला एवं पुलिस प्रशासन की सहभागीदारी रही. 

शुक्रवार को उस वक़्त लोग हैरत में आ गए जब वेंटिलेटर युक्त एम्बुलेंस के निकलने के लिए पुलिस ने संजय गाँधी अस्पताल से लेकर चोरहटा हवाई पट्टी तक एक तरफ का रास्ता खुलवाना शुरू कर दिया गया. एम्बुलेंस की निकासी तक आम जन के लिए इसे पूरी तरह से बंद कर दिया गया था. पहले तो लोगों को लगा कि शायद रीवा में किसी बड़े नेता का आगमन हो रहा हो, लेकिन जल्द ही उन्हें पता चल गया कि मरीज की शिफ्टिंग के लिए रीवा शहर में ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया है. 

वेंटिलेटर में हैं ADJ 

दरअसल, डेढ़ माह पहले सिंगरौली के एक ADJ को कोरोना संक्रमित होने के बाद रीवा के संजय गाँधी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनकी हालात में सुधार तो हुआ, लेकिन जिस तरह से उनकी रिकवरी होनी थी उस तरह से नहीं हो पा रही है. इस वजह से उनके फेफड़ों में संक्रमण बढ़ता जा रहा है. जिसके चलते वे कई दिनों से वेंटिलेटर में हैं. 

परिजनों ने दिल्ली के एक अस्पताल में संपर्क किया एवं एयरलिफ्टिंग के जरिए उन्हें अस्पताल प्रशासन ने दिल्ली लाने की सलाह दी. इसके बाद परिजनों ने जिला प्रशासन से मदद मांगी. इस सम्बन्ध में जिला प्रशासन ने बिना देरी किए यथासंभव मदद करने का आश्वासन दिया और शहर के उस मार्ग को ग्रीन कॉरिडोर में तब्दील करा दिया, जिस मार्ग से वेंटिलेटर युक्त एम्बुलेंस को हवाई पट्टी तक पहुंचना था. 

रीवा वासियों ने किया सहयोग, 10 मिनट के अंदर हवाई पट्टी पहुंची एम्बुलेंस

पुलिस के पहरे में अस्पताल चौराहा से लेकर प्रकाश चौक, जयस्तंभ, ढेकहा, पड़रा से लेकर चोरहटा की हवाई पट्टी तक ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया. हांलाकि रीवा के लोगों के लिए यह नया था. लेकिन जानकारी लगने के बाद रीवा वासियों ने भी बाखूबी सहयोग किया. किसी भी तरह की अड़चन नहीं आई और 10 मिनट के अंदर एम्बुलेंस हवाई पट्टी तक पहुँच गई. इस के बाद ADJ के परिजन उन्हें एयर एम्बुलेंस के जरिए दिल्ली के लिए रवाना हो गए. अगर ग्रीन कॉरिडोर न बनाया गया होता तो एम्बुलेंस को हवाई पट्टी तक पहुँचने में आधे घंटे से अधिक का समय लगता. 

Comments

Be the first to comment

Add Comment
Full Name
Email
Textarea
SIGN UP FOR A NEWSLETTER